टिकटॉक : हर किसी की रचनात्मकता उजागर करने वाला

टिकटॉक : हर किसी की रचनात्मकता उजागर करने वाला

टिकटॉक : हर किसी की रचनात्मकता उजागर करने वाला :

 

इसी साल कुछ पहले विश्व के प्रमुख शॉर्ट वीडियो प्लैटफॉर्म, टिकटॉक  ने अपने क्रिएटर्स लैब में देश भर के 500 कंटेंट निर्माताओं तथा प्रभावोत्पादक लोगों का सम्मलेन आयोजित किया था.

 

इस आयोजन का उद्देश्य था सार्थक कंटेंट के जरिये भारत की रचनात्मक अर्थव्यवस्था के प्रति टिकटॉक की वचनबद्धता एवं योगदान को उजागर करना.

 

साल की शुरुआत से ही, टिकटॉक  की कम्युनिटी में वृद्धि देखी जा रही है.

 

पूरे देश से और विशेषकर तमिलनाडु, कर्णाटक, तेलंगाना, महाराष्ट्र, गुजरात और दिल्ली के लोगों ने टिकटॉक  पर अनोखे और आकर्षक कंटेंट का निर्माण किया है.

 

भारत के छोटे-छोटे शहरों में यूजर्स के बीच इसकी बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए टिकटॉक  की कम्युनिटी द्वारा नए-नए क्रिएटरों को इस प्लैटफॉर्म के जरिये विश्व मंच पर अपनी रचनात्मकता तथा प्रतिभा दर्शाने के लिए आमंत्रित किया गया है.

 

टिकटॉक : हर किसी की रचनात्मकता उजागर करने वाला :

 

इस्तेमाल में आसान इंटरफ़ेस और कंटेंट के प्रति स्थानिक नजरिया, टिकटॉक  की सबसे बड़ी खूबियों में से एक है.

 

इस खूबी में संयोजन योग्य फ़िल्टर तथा समुचित साउंडट्रैक्स, थीम्स, और साउंड इफेक्ट्स के समावेश की बदौलत यूजर को एकदम सटीक वीडियो बनाने में आसानी होती है.

 

विशिष्ट कंटेंट के माध्यम से अनेक लोगों को उनकी अपनी कला में लोकप्रिय होने का मौक़ा मिला है.

 

कंटेंट्स के माध्यम से डिजिटल भारतीयों को जोड़ते और सशक्त बनाते हुए टिकटॉक  भारत की फलती-फूलती रचनात्मक अर्थव्यवस्था में सकारात्मक योगदान करने की दिशा में अग्रसर है.

 

टिकटॉक  का ही कमाल है कि अनेक लोग इन्टरनेट सेंसेशन बन गए हैं. ऐसे ही एक व्यक्ति हैं कबराता,

 

जो पंजाब के रोपड़ जिले में किरतपुर साहिब में लेमन सोडा बेचने का काम करते हैं. कबराता पिछले पाँच वर्षों से लेमन सोडा बेच रहे हैं.

 

एक गिलास से लोगों की प्यास बुझाने वाले कबराता अपने ग्राहकों को सर्व करने के अपने ख़ास अंदाज़ को लेकर टिकटॉक  पर मशहूर हो गए.

 

उनकी लोकप्रियता का आलम यह है कि लोगों ने उनका नाम ही सोडाबॉय रख दिया है.

 

लेमन सोडा बनाते हुए वे दावा करते हैं कि “एक बार पियोगे तो बार बार मांगोगे”.

 

उनके ख़ास अंदाज़ को लेकर एक हैशटैग भी #गैसपूरी के नाम से बन गया है.

 

कबराता भी अपने नीम्बू सोडा को इसी नाम से पुकारते हैं. उनकी लोकप्रियता आसमान तक पहुँच गयी है और बहुत कम समय में टिकटॉक  पर #गैसपूरी को 671.9 मिलियन बार देखा जा चुका है.

 

इस साल के शुरू में भारत के केरल राज्य के 85-वर्षीया मेरी जोसफ ममपिल्लई ने छठे 1 मिलियन ऑडिशन का 1एम विनेश मलयालम ऑडिशन जीता था.

 

उनके पोते, जिन्सन द्वारा सबमिट की गयी टिकटॉक  एंट्रीज़ ने अनेक लोगों का दिल जीता और इतना लोकप्रिय हुआ कि उसी की बदौलत उन्हें अपना ऐक्टिंग करियर आरम्भ करने में सहूलियत हुयी.

 

यह वयोवृद्धा अब दो-दो बहुप्रतीक्षित मलयाली फिल्मों में दिखाई देंगी, जिनमे से एक में लोकप्रिय मलयाली अभिनेता जयराम भी रोल कर रहे हैं.

 

भारत में अधिकाधिक लोगों के टिकटॉक  पर सहभागिता को देखते हुए कंपनी को उम्मीद है कि उसे आनंद का प्रसार करने और लोगों के चेहरे पर मुस्कराहट पैदा करने वाले यूजर्स का एक रचनात्मक और समावेशी समुदाय तैयार में भारी सफलता मिलेगी.

 

इसकी बदौलत टिकटॉक  गूगल प्ले स्टोर और एप्पल स्टोर, दोनों पर सबसे अधिक डाउनलोड किया जाने वाला मोबाइल फ़ोन ऐप बन गया है.

 

टिकटॉक  ने अपने नवीनतम कैंपेन, #मायटिकटॉकस्टोरी की पेशकश के साथ भारत की रचनात्मक संस्कृति के प्रति अपनी वचनबद्धता को भी पुनः पुष्ट किया है.

 

इस कैंपेन द्वारा भारतीय लोगों को 15 सेकंड का वीडियो बनाने को प्रोत्साहित किया गया था जिसमें उनकी व्यक्तिगत लगन और पहचान की झलक हो – भले ही वह डू-इट-योरसेल्फ (डीआईवाई) के माध्यम से हो, या कुकिंग, स्पोर्ट्स, डांसिंग, सिंगिंग, पॉटरी या किसी और प्रतिभा से जुड़ी हो.

 

Note:-This Is A Sponsored Post By TikTok India, All Texts /  Logo & Images Appear On This Posts Are Owned By TikTok or Its Respective Owner, Anything Copy Of This Posts May Be Subject To Copyright On Behalf Of TikTok Or Its Respective Owner Or By MyDreamBlog.in

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *