एसएससी जॉब सीकर वालो की स्ट्राइक पिछले २२ दिन से चल रहा है वेस्ट बंगाल में

एसएससी जॉब सीकर वालो की स्ट्राइक पिछले २२ दिन से चल रहा है वेस्ट  बंगाल में

एसएससी जॉब सीकर वालो की स्ट्राइक पिछले २२ दिन से चल रहा है वेस्ट
बंगाल में उनका मांग है पार्था जी से मिलना है (पार्था जी फ़िलहाल सीख्शा मंत्री है बंगाल का), हम ऐसा एक देश में रहते है जहा मुर्ख लोग मंत्री बन जाता है, जबसे मुख्यमंत्री की पार्टी पावर में आया है न तो कोई जॉब है नहीं कंपनी बन रहा है इसलिए नैनो, पेट्रोलियम जैसा कंपनी दुषरे स्टेट में चला गया है,

आपको या वि बता दे के मुख्यमंत्री ने नया कंपनी करने के लिए कहा है जो की एक हसने की बा त है woh है वडा पाव कंपनी, उन्होंने एक भासन में या कहा था, के उन्होंने ऐसा लोगो को देखा है जिन्होंने ५०० से वडा पाव का बिज़नेस स्टार्ट आरके५ मजला बिल्डिंग वि खड़ा किया है,

अगर इन एसएससी वालोकी मांगे पूरा न हो तो शायद इनका टिकना असंभव हो जायेगा इस इलेक्शन में, हाली में बांग्लादेश से रोहिंगा लोगो को लेकर उन्होंने मुसलमानो की संख्या और वि बड़ा दिया, इसलिए हिन्दू लोग बहुत ही जयादा गुस्से में है इनके ऊपर, उप[पर से उन्होंने ज्यादातर मुस्लिम नेताओ को ही जिले में मैं बनाया है, या उनका इस वोट में हरने का,

बता दे जब ममता जी बंगाल के रायमंत्री थे तब उन्होंने बहुत सारे सुबिधा किये था रेल योगायोग में, लेकिन इसका पमुख्यमंत्री होते ही इनका असली चेहरा सामने आने लगा था, अवि कुछ दिन Pehle उनका ही परिवार का एक बहु २ कग सोने के साथ एयरपोर्ट ेंपकड़ा गया है, तो आप सोच सकते झाई कितना निचे गए बंगाल, जिसके वजेसे वह नॉकटरी नहीं, फ़िलहाल वह पर अतनु नाम के एक सख्स की मौत वि हुआ है जिन्होंने रिश्वत ११ लाख ने दे सका नौकरी के लिए और सुसाइड वि कर लिया,

जहा कंपनी ही नहीं रहेगा तो वह नौकरी कैसे होगा, एक ऐसा जगा जहा नौकरी निकलने से पहले ही रिश्वत से बुक हो जाता वचनकु, इस उनपर रिश्वत देने वाले पुलिस , टीचर होते है ज्यादातर,इनलोग रिश्वत के इतने लालची होते है के ५० रुपया और १०० रुपया तक लेके खुश हो जाते है, इस कारन बहुत सारे लोग बैंगलोर, चेन्नई, दिल्ली, मुब्बई में जाकर होटल में वेटर का काम कर रहे है, आप यकीन नहीं मानेंगे हम खुद वि होटल में वेटर का काम किया है,
अगर ऐसा हालत है तो हम दावेगे साथ कहे सकते है इस्वर उनका सर्कार टिकना न मुमकिन है अगर वोटिंग में कोई चालाकी न हुआ तो,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *