हिटलर के घर का काला सच – the true story of hitler house in hindi

हिटलर के घर का काला सच – the true story of hitler house in hindi

अडॉल्फ हिटलर के घर से जुड़ी कई कहानियां हैं जिन्हें हम आज भी सुनते हैं. आइए जानते हैं घर से जुड़े कुछ किस्से…

::::real story of hitler house in hindi:::::

Prinzregentenplatz 16, म्यूनिखः हिटलर का प्राइवेट अपार्टमेंट



2 – हिटलर ने 1929 से इस घर में रहना शुरू किया था. इस प्रॉपर्टी को नाजी दानकर्ता और पब्लिशर ह्यूगो ब्रकमैन ने फाइनेंस किया था. इसे इंटीरियर डिजाइनर ग्रेडी ट्रूस्ट ने डेकोरेट किया था. ट्रूस्ट ने इसमें कंटेपररी नाजी अप्रूव्ड फर्नीचर और नॉन डिजेनरेट आर्ट से सजाया था.




3 – वैश्विक नेताओं पर असर छोड़ने के लिए हिटलर उन्हें अपना घर दिखाता था. 1937 में हिटलर ने इसी अपार्टमेंट में इटली के तानाशाह बेनिटो मुसोलिनी से मुलाकात की थी. इसी साल उसने इसी घर में ब्रिटिश प्रधानमंत्री नेवले चेंबरलेन से मुलाकात की थी.



4-इतिहासकारों के मुताबिक, हिटलर की प्रेमिका ने 1938 में अपने दोस्तों को ये फोटो दिखाई थी और कहा था कि सिर्फ वही जानती है कि उस मुलाकात में क्या चल रहा था. ये बिल्डिंग अभी भी खड़ी है और इस वक्त म्यूनिख पुलिस का हेडक्वार्टर इसमें है.




5-  1934 में जब हिटलर ने खुद को नेता घोषित किया था, उसने पूर्व राष्ट्रपति के प्राइवेट अपार्टमेंट को अपना घर बनाया और इसे Führerwohnung (leader’s apartment) का नया नाम दिया.

 

Reich Chancellery, बर्लिनः हिटलर का आधिकारिक घर



6- नाजी तानाशाह इस जगह से खुश नहीं था. वह इसे किसी कंपनी के लिए उपयुक्त मुख्यालय के रूप में देखता था. हिटलर ने निजी अपार्टमेंट को अपने कद के नेता के लिए अनुपयुक्त माना था.

7- हिटलर ने इसे फिर से तैयार कराने का फैसला लिया. उसने अपने पर्सनल आर्किटेक्ट अल्बर्ट स्पीर को बुलाया जिसने द्वितीय विश्वयुद्ध में दासों से यहां काम कराया.




8- हिटलर इस घर में अपनी प्रेमिकी ईवा ब्राउन के साथ समय बिताता लेकिन ताल्लुकात अलग हो चले थे. नाजी नेता जो मानता था कि वह अपोजिट सेक्स के प्रति अत्यंत सम्मोहक था, उसे लगता था कि अगर Reich महिलाओं को इसका पता चला कि वह सिंगल नहीं है तो उन्हें गहरा दुख पहुंचेगा.

9- अपने रिश्ते को छिपाकर रखने वाले हिटलर ने हमेशा ईवा पर दबाव डालकर उसे आवास के पिछले दरवाजे से आने के लिए कहा. वह इस बात को लेकर बेहद चिंतित रहता था कि सार्वजनिक रूप से दोनों कभी एक साथ न देखे जाएं.



10- हिटलर के बर्लिन में रहने के दौरान, ब्राउन ने सुसाइड की कोशिश भी की. 1935 में नाजी नेता की मिस्ट्रेस ने नींद की गोलियों का ओवरडोज ले लिया. ये ब्राउन द्वारा आत्महत्या की दूसरी कोशिश थी. इससे पहले 1932 में वह अपनी जान देने की कोशिश कर चुकी थी.

11- ब्राउन अपने रिश्ते को ‘सीक्रेट’ रखे जाने से नाराज थीं और वह ये भी जानती थीं कि उन दोनों की कभी शादी नहीं हो सकती. ज्यादातर दोनों अलग अलग ही रहते थे. इन्हीं सब वजहों से वह आत्महत्या को मजबूर हुईं.

Berghof, Berchtesgarden: हिटलर कंट्री रिट्रीट

12- हालांकि हिटलर ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान Reich Chancellery में कम वक्त ही बिताया लेकिन ये नेता Berghof, के अपने घर में रहना ही ज्यादा पसंद करता था. जो दक्षिणी जर्मनी में स्थित था.



13- हिटलर ने 1933 में अल्पाइन रिट्रीट को खरीदा था. इसे खरीदने के लिए उसने आत्मकथा वाली किताब Mein Kampf की रॉयल्टी का इस्तेमाल किया था. 1936 में बड़े पैमाने के रिनोवेशन के बाद हिटलर ने इसका नाम Berghof रखा.

14- यही वो जगह थी जहां हिटलर हकीकत में रिलैक्स कर सकता था. नाजी लीडर के साथ ज्यादातर समय ईवा ब्राउन होती थीं. Berghof उन चुनिंदा जगहों में से एक था जहां ये जोड़ा खुलकर अपने रिश्ते को जी लेता था.




15-हिटलर का Berghof में निवास प्रोपेगेंडा उद्देश्य के लिए था. अपनी क्रूर छवि को बदलने के लिए वह एक आदर्श प्रस्तुत करने की लगातार कोशिश करता था. ऐसा करने के लिए वह खुद को बच्चों, पशुओं का प्रेमी बताने से नहीं चूकता था.

16- हिटलर की कई तस्वीरें बच्चों संग छापी जाती थी, जिसमें एक बच्ची भी थी जिसका नाम Bernile Nienau था. म्यूनिख में पैदा हुई ये बच्ची हिटलर से 1933 की स्थानीय रैली में मिली थी और जब उसने हिटलर को बताया कि उन दोनों को बर्थडे एक ही दिन आता है तो हिटलर ने 7 साल की Bernile और उसकी मां को Berghof आने का निमंत्रण दिया.




17-हिटलर का Nienau के प्रति स्नेह देखकर कई बार हिटलर को इस बच्ची का पिता कहकर भी संबोधित किया जाने लगा था. लेकिन Neinau का एक सीक्रेट था. वह पूरी तरह यहूदी नहीं थी और इसी वजह से वह नाजी शासन के लिए अवांछनीय थी.



18-आश्चर्यजनक रूप से, हिटलर ने Neinau’s के पूर्वजों का पता लगाने का फैसला किया लेकिन अपने बेहद करीबी Martin Bormann का पता चलने के बाद उसने बच्ची और उसकी मां को Berghof में बैन कर दिया और अपनी सभी तस्वीरें पब्लिकेशंस से हटवा लीं.

19-Neinau को इसके बाद फिर कभी Führer में नहीं देखा गया. जब इस बच्ची और उसके परिवार पर होलोकास्ट की दहशत थी, Neinau की मौत 17 साल में म्यूनिख में हो गई. इसकी वजह पोलियो से संबंधित स्पाइनल पैरालिसिस था.

Wolf’s Lair, Kętrzyn: हिटलर का पूर्वी मोर्चा बोथोल

20- पूर्वी मोर्चे पर हिटलर के कई घर थे लेकिन Wolfsschanze, आज के पोलैंड में बना, ईस्टर्न फ्रंट पर उसका प्रमुख पोस्ट था.



21-नाजी नेता ने कुल 800 से ज्यादा दिन इस घर में बिताए, वो भी द्वितीय विश्व युद्ध में. हिटलर के लिविंग क्वार्टर्स एक बंकर में बने थे.



22-यहीं पर हिटलर को ये डर हो गया था कि उसे जहर देकर मारा जा सकता है. इसके बाद पास के गांव की 15 महिलाओं की तैनाती उसके फूड टेस्टर के तौर पर की गई.

23-20 जुलाई 1944 को हाईरैंकिंग Wehrmacht officers जिसमें aristocrat Claus von Stauffenberg (pictured) भी थे, उन्होंने हिटलर के घर पर बम गिराकर उसे मारने की कोशिश की. ये ऑपरेशन बड़ा फेलियर साबित हुआ.



24-ये बम 12:42 पर फटा और इसकी वजह से 25 लोग घायल हुए जिसमें से 3 बाद में मौत का शिकार हुए. फूड टेस्टर मार्गोट वॉल्क ने सबसे पहले धमाके की आवाज सुनी और वह समझ गईं कि हिटलर मारा जा सकता है. दुर्भाग्यवश, हिटलर इससे बच निकला. हिटलर को एक स्टडी टेबल ने बचाया जिसके नीचे हिटलर छुपा.

25-इस हमले में शामिल लोगों को कड़ी यातनाओं से गुजरना पड़ा. साजिशकर्ताओं को फायरिंग स्क्वॉड ने मार दिया. साजिश से किसी भी तरह जुड़े लोगों को कड़ी यातनाएं दी गईं और फिर मार दिया गया. कम से कम 5000 जर्मन्स को इसके बाद मौत के घाट उतारा गया.




26-सोवियत सैनिकों की बढ़ती ताकत को देखते हुए हिटलर ने इस घर को नवंबर 1944 को छोड़ दिया. 15 फूड टेस्टरों में से सिर्फ मार्गोट वोल्क बच पाने में कामयाब हुईं. बाकी 14 को सोवियत ट्रूप्स ने जनवरी 1945 को गोली मार दी.

27-इस घर को तबाह कर दिया गया. इसके तहघाने 1950 के दशक तक भी साफ नहीं किए जा सके थे. इस इलाके में दशकों तक कई जिंदा बम यूं ही पड़े रहे थे.



Reich Chancellery, Berlin: हिटलर का आधिकारिक आवास

28-द्वितीय विश्व युद्ध के आखिरी दिनों तक हिटलर अपने इसी घर में था. इसमें उसके साथ ब्राउन, विश्वासपात्र और सहयोगी थे. उसने इसके बंकर को भी नए सिरे से बनाया था.

29-जब रेड आर्मी करीब आ रही थी, हिटलर ने अपनी प्रेमिका ईवा ब्राउन से शादी करने का फैसला किया. 28 अप्रैल 1945 को दोनों ने शादी की और 2 दिन बाद इस जोड़े ने आत्महत्या कर ली. हिटलर ने खुद को गोली मारी जबकि ईवा ने साइनाइड लिया.




30-इन दोनों के शरीर को Reich Chancellery के बगीचे में मई 1945 में जला दिया गया. इस बिल्डिंग को उजाड़ दिया गया और विश्व युद्ध के बाद यह सलामत नहीं रही. बाद में सोवियत ट्रूप्स ने इसके अवशेषों को भी गिरा दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *