Inside Story: पढ़िए, 15 अप्रैल की आधी रात का पूरा सच, इस तरह हुआ रोहित का मर्डर

Inside Story: पढ़िए, 15 अप्रैल की आधी रात का पूरा सच, इस तरह हुआ रोहित का मर्डर

 

उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहकर इतिहास रचने वाले दिवंगत नेता नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी (Rohit Shekhar Murder Case) की हत्या का राज दिल्ली पुलिस ने खोला तो सब हैरान रह गए।

दरअसल, रोहित शेखर की हत्या का खुलासा करते हुए बुधवार को दिल्ली पुलिस ने रोहित की पत्नी अपूर्वा (Apoorva Shukla) को गिरफ्तार कर लिया। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, पत्नी अपूर्वा शुक्ला ने अपने पति रोहित की हत्या का गुनाह कबूला है। साथ ही पेशे से वकील अपूर्वा ने यह भी बताया कि कैसे उसने 90 मिनट के दौरान अपनी पति की मौत की घटना को अंजाम दिया। अपूर्वा के बताए घटनाक्रम के मुताबिक, रोहित और अपूर्वा के बीच संबंध शादी के कुछ दिन बाद से ही खराब हो गए थे, क्योंकि रोहित की शराब पीने की आदत का पता उसके कुछ दिन बाद ही पत्नी अपूर्वा को चल गया था। इस बीच अपूर्वा ने रोहित को शराब छोड़ने को कहा, लेकिन रोहित ने उसकी बात नहीं मानी। धीरे-धीरे अपूर्वा को यह भी पता चल गया कि रोहित को हार्ट संबंधी बीमारी है और उसे दो बार हार्टअटैक भी हो चुका है, बावजूद इसके वह नींद की दवाइयां लेता था। इसके बाद से दोनों के बीच संबंध इस कदर खराब हो गए कि दोनों ने एक कमरे में सोना छोड़ दिया। आवास में मौजूद घरेलू सहायकों के मुताबिक, पति-पत्नी दोनों अलग-अलग कमरों में सोते थे और उन दोनों के बीच बातचीत न के बराबर होती थी।

यह है 15-16 मई की रात की सच्चाई

पुलिस को दिए बयान में अपूर्वा ने साफतौर पर कहा कि वह अपने और रोहित के बीच रिश्ते को लेकर परेशान थी, शादी उसके लिए किसी समस्या की तरह हो गई थी। अपूूर्वा की मानें तो रोहित उत्तराखंड गए थे और वापसी में पूरे रास्ते के दौरान रोहित अपनी एक महिला मित्र के साथ शराब पीता रहा। अपूर्वा ने रोहित को वीडियो कॉल किया तो यह जानकार गुस्सा हो गई कि वह महिला और रोहित शेखर दोनों नशे में धुत हैं। 15 अप्रैल की रात

तकरीबन 11 बजे रोहित शराब के नशे में अपनी महिला मित्र के साथ ही वापस लौटा तो अपूर्वा और रोहित का जमकर झगड़ा हुआ। इसके बाद खाना खाने के बाद रोहित घर की पहली मंजिल के अपने कमरे में चला गया। बताया जाता है कि शराब के नशे के चलते जब रोहित गहरी नींद सो रहा था तभी मौका देखकर रात तकरीबन 2 बजे के आसपास अपूर्वा ने रोहित की गला दबाकर हत्या कर दी। इस दौरान रोहित विरोध नहीं कर पाया, क्योंकि उस पर नींद और नशा दोनों ही हावी थी। यहां पर बता दें कि इंदौर की रहने वाली 34 वर्षीय अपूर्वा पेशे से वकील हैं।

इसलिए नाक से निकला खून

पुलिस पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, पोस्टमॉर्टम की फाइनल रिपोर्ट में दम घुटने से कान की नस फटने की बात कही गई है। इसी वजह से नाक से खून निकलना बताया गया है। उनके पेट में ऐल्कॉहॉल और अनपचा खाना मिला। इससे जाहिर होता है कि दवा खाने के कुछ ही मिनट बाद रोहित ने दम तोड़ दिया होगा।

अपूर्वा का परिवार मनी माइंडेड

क्राइम ब्रांच की जांच के दौरान उज्ज्वला रोहित की मां उज्ज्वला शर्मा तिवारी के लगातोर चौंकाने वाले बयान आ रहे थे। बीते रविवार (21 अप्रैल) को उन्होंने कई नए खुलासे किए थे। उन्होंने कहा था कि रोहित पहली बार अपूर्वा से 2017 में लखनऊ में मिले थे। मेट्रोमोनियल साइट के जरिये इनका परिचय हुआ था। अपूर्वा मेरे करीबी रिश्तेदार की पत्नी पर रोहित से अवैध रिश्ते होने का शक करती थी जो गलत था। रोहित से शादी करने के बाद से ही अपूर्वा को रिश्तेदार व उनकी पत्नी से परेशानी थी। उन्होंने कहा था कि अपूर्वा का परिवार मनी माइंडेड है।

विवाह के पहले था बॉयफ्रेंड

उज्ज्वला ने कहा था कि विवाह के पहले अपूर्वा का बॉयफ्रेंड था। उनके पिता गलत बोल रहे हैं। अपने मेमेरे भाई राजीव के बेटे कार्तिक को सिद्धार्थ अपनी प्रॉपर्टी का हिस्सा देना चाहता है। इस बात से अपूर्वा नाखुश थी। राजीव और उनकी पत्नी ने 40 वर्ष मेरी व एनडी तिवारी की सेवा की है, इसलिए एनडी तिवारी इन्हें पुत्रवत मानते थे। मुझे कैंसर होने के बाद ये लोग मेरी सेवा के लिए मौजूद रहे। नवंबर 2017 में राजीव का परिवार मेरे यहां से तिलक लेन शिफ्ट हो गया था। तब कोई बात नहीं हुई। शादी के बाद रोहित जब डिफेंस कॉलोनी में रहने लगे तब शक होने लगा। उन्होंने कहा कि बच्चों के अंदरूनी मामलों में मैं दखल नहीं देना चाहती हूं। आजकल शादियां इतने विलंब से होती हैं। लड़के-लड़कियों की 35-40 साल तक शादी नहीं होती है। जवान बच्चे एक-दूसरे से हंसी मजाक कर लेते हैं, यह अलग बात है। अपनी कमी को छिपाने के लिए गलत आरोप लगाए जा रहे थे।

अपूर्वा और रोहित जून में लेने वाले थे तलाक

उज्ज्वला ने आरोप लगाया था कि अपूर्वा रोहित और सिद्धार्थ की प्रॉपर्टी हड़पना चाह रही थी। रोहित को यहां तक परेशान किया गया था कि उसने जब अपूर्वा से कहा कि तुम्हारी मां ने मेरी मां पर गलत और आधारहीन आरोप लगाए हैं, मैं तुम्हारी मां से मिलना नहीं चाहता हूं। मैं उनका मुंह नहीं देखना चाहता हूं, तब अपूर्वा ने रोहित से कहा था कि वह उनकी मां के लिए मध्य प्रदेश में मकान बनाकर दें। इस पर रोहित ने मना कर दिया था। उज्ज्वला ने आरोप लगाया कि इनके दिमाग में यह बात है कि एनडी तिवारी की अकूत संपत्ति है। इनके दिमाग में यही नाचता रहता है कि कैसे कितना निकाल लें। कई बार बातें हुई कि आपसी सहमति से अपूर्वा और रोहित का तलाक हो जाए। यह तय हुआ था कि जून में आपसी सहमति से तलाक लेकर दोनों अलग हो जाएंगे, लेकिन 15 अप्रैल की रात को रोहित की हत्या हो गई। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *